आई रे रंगों की होली ॥

तरह-तरह की ले पिचकारी,
ताक-धिना-धिन नाचें गायें।
रंग-रंगीला मोहक टोली,
आओ मिलजुल करें ठिठोली॥1॥

गालों पर गुलाल लगायें,
इक दूजे से हाथ मिलायें।
रंग प्यार का यूँ बरसा दें,
भर जाये ख़ुशियों से झोली॥2॥

भूल-भुलाकर भेद-भाव को,
मस्ती का त्यौहार मनायें।
बैर भाव को करें किनारा,
मुख से बोलें सुन्दर बोली॥3॥

0 Comments

Leave a Comment