01-03-2019

आँसू पीना ही पड़ता है 

डॉ. कविता भट्ट

विशाल सागर किन्तु खारा
आँसू भी अनन्त हैं खारे ही
कितना बड़ा अचरज है
सागर की एक बूँद भी नहीं पीते
परन्तु आँसू पीना ही पड़ता है
अस्तित्व की पहली शर्त जो है
हम जीवित हों या न हों
जीवित होने का ढोंग करते रहते हैं
और आँसुओं का खारापन
उपहास करता है; हमारा जीवनभर
हम निरुत्तर होकर अपलक निहारते
जबकि हमें प्रश्नचिह्न अच्छे नहीं लगते...

0 Comments

Leave a Comment