दंगल 
तो
रोज़ होते है
मेरे भीतर

रोज़
लड़ता हूँ
ख़ुद से
अकेले अकेले

और
हर वक़्त
मैं ही
हार जाता हूँ
ख़ुद से।

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
विडियो
ऑडियो